coulomb's law in hindi, what is basic difference between electrostatic force and gravitational force

कूलॉम का नियम ( Coulomb's Law)

हमने इससे पहले आवेश तथा आवेश के गुण के बारे में बताया है और जिससे हमें यह पता चला आवेश अपने आप में पदार्थ का एक गुण है तथा आवेश दो प्रकार के होते हैं धनात्मक एवं ऋणात्मक आवेश ।

        समान आवेश आपस में प्रतिकर्षित होते हैं एवं अलग अलग (विपरीत)  आपस में आकर्षित होते हैं । इससे यह मतलब निकलता है कि आवेशों के बीच कोई न कोई बल अवश्य कार्य करता होगा जिसके कारण आवेशों के बीच आकर्षण एवं प्रतिकर्षण होता है और इसी बल को विद्युत बल कहा गया।

   दो आवेशित कणों के बीच बल को समझाने के लिए कूलाम ने एक प्रयोग किया तथा प्रयोगों के आधार पर उसने नियम दिया जो कि इस प्रकार है 



यह भी पढ़े


कूलॉम का नियम ( Coulomb's Law)
:-

      दो बिंदु आवेशों के बीच कार्य करने वाला आकर्षण प्रतिकर्षण बल दोनों आवेशों के परमाणु के गुणनफल के अनुक्रमानुपाती तथा उनके बीच की दूरी के वर्ग के ब्युतक्रमानुपाती होता है इस बल की दिशा दोनों आवेशों को मिलाने वाली रेखा की दिशा में होती है।

          ( Two  stationary point charge Q1 and Q2 repel or attract each other with a force F which is directly proportional to the product of the charge and inversely proportional to the square of the distance R between them.)


coulomb's law in hindi, what is basic difference between electrostatic force and gravitational force
Coulomb's Law


Coulomb's Law and Gravitational Law (कूलाम्ब नियम एवं गुरुत्वाकर्षण नियम में समानता)


विद्युत बल (Electric Force) के लिए कूलाम का नियम तथा न्यूटन (Newton) के गुरुत्वाकर्षण नियम को अगर भली-भांति देखें तो दोनों में बहुत ही ज्यादा समानता है यह दोनों नियम दूरी के वर्ग के ब्युतक्रमानुपाती(Invesly- parpotional) होते हैं, तथा जैसे कूलाम के नियम में आवेश का Role है बिल्कुल वैसा ही गुरुत्वाकर्षण(Gravitational) बल में द्रव्यमान का Role है।

   भले ही दोनों नियमों के सूत्र (Formula)देखने में एक जैसे ही लगते हैं लेकिन फिर भी दोनों में अपने आप में काफी ज्यादा अंतर देखने को मिलता है जहां विद्युत बल के लिए कूलाम का नियम आकर्षण(Attractive) एवं प्रतिकर्षण (Repulsive) दोनों ही प्रकृति (Nature) का है वही न्यूटन के गुरुत्वाकर्षण का नियम केवल और केवल आकर्षण बल के लिए ही है इसका अर्थ निकलता है कि आवेश दो प्रकार (Two Type) के होते हैं जबकि द्रव्यमान(Mass) केवल और केवल एक ही प्रकार का होता है।

 दूसरी बात विद्युत बल माध्यम (Medium) पर निर्भर करता है जबकि गुरुत्वाकर्षण बल (Gravitational force) माध्यम (medium)/पर निर्भर नहीं करता है इसके  साथ ही विद्युत बल (Electric Force) गुरुत्वाकर्षण बल (Gravitational Force)से कई गुना अधिक Strong होता है।

यह भी पढ़े




  अगर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगती है तो हमें Comment में जरूर बताएं एवं इस post को अपने दोस्तों तक जरूर Share करें।

1 Comments

Post a comment