Frictional Force, Cause of friction, Types of Friction, Angle of Friction, What is friction in Hindi

Frictional Force घर्षण बल

इस पोस्ट में frictional force के बारे में एवं types of friction जैसे sliding friction, static friction, limiting friction के बारे में विस्तार से बताया गया है मुझे पूर्ण विश्वाश है कि आपको इस पोस्ट को पढ़ने के बाद friction घर्षण बल पूर्ण रूप से समझ आएगा. 

हमारे जीवन में friction बेहद जरुरी है यदि हम धरती पर चल पा रहें हैं तो उसका कारण घर्षण बल ही है बिना friction force के कुछ भी कर पाना मुश्किल है, जितनी भी Machine काम करती है उन सभी के पीछे घर्षण बल ही कार्य करता है। हम किसी भी चीज को पकड़ते है तो वह friction का ही कारण है।



What is friction घर्षण बल क्या है

जब दो वस्तु एक दूसरे के संपर्क contact में हों तथा उनके बीच आपेक्षिक गति Relative motion हो, तो उनकी बीच एक ऐसा बल कार्य करता है जो उनकी आपेक्षिक गति Relative Motion का विरोध करता है यही विरोधी बल घर्षण बल Frictional Force कहलाता है।

अर्थात घर्षण बल के कारण वस्तु में गति का विरोध उत्पन्न होता है।

मान लो अगर frictional force न हो तो हम पृथ्वी पर चल नहीं पाएंगे, सड़क पर गाड़ी नहीं चल पाएगी, हम लिख नहीं पाएंगे, हम बोल नहीं पाएंगे, और अगर गलती से कोई गाड़ी चलने लग जाये तो फिर उसको रोकना असम्भव हो जाएगा। एक तरह से हम कह सकते हैं कि बिना friction के कुछ भी करना मुश्किल है।




Cause of friction घर्षण का कारण

दो वस्तुओं के Contact से उनके अणुओं के बीच attraction force उत्पन्न हो जाता है जिसके कारण उनमें आपेक्षिक Relative motion का विरोध हो जाता है, इसी विरोधी बल को घर्षण बल Friction force कहते हैं।



घर्षण बल की दिशा सदैव लगाए गए force के विपरीत direction में होती है तथा इसकी उतप्ति मूल रूप से विद्युत चुम्बकीय Electromagnetic force से होती है।




Types of Friction in hindi घर्षण के प्रकार

मुख्य रूप से घर्षण के तीन प्रकार है।

  • Static Friction स्थैतिक घर्षण
  • Limiting Friction सीमान्त घर्षण
  • Kinetic Friction गतिक घर्षण



Static Friction in Hindi स्थैतिक घर्षण

जब तो वस्तुएँ संपर्क हो एवं गति नहीं कर रही हो तो उनके बीच लगने वाले घर्षण बल को स्थैतिक घर्षण Static friction बल कहते हैं।
जैसे ही वस्तु पर force का मान बढ़ा दिया जाए तो एक समय पर वस्तु गति करने लग जाती है तब वस्तु पर लगने वाले घर्षण बल को गतिक घर्षण बल  Kinetic force कहते हैं।





सीमान्त घर्षण बल Limiting Friction force

यदि कोई वस्तु स्थिर है तो उस पर केवल Static Friction force कार्य करता है यदि वस्तु पर बाह्य बल का मान बढ़ाते जाएं तो तो स्थैतिक घर्षण बल का मान भी बढ़ने लगता है तथा एक समय पर maximum हो जाता है जिसके बाद वस्तु चलने लग जाती है इसी maximum मान को सीमान्त घर्षण बल Limiting Frictional force कहते हैं।


  • अतः स्थैतिक घर्षण बल के अधिकतम मान को सीमान्त घर्षण बल कहते हैं।




Law of Limiting Force सीमान्त घर्षण के नियम


  • (1) सीमान्त घर्षण का मान contact surface पर depend करता है, वस्तुओं के shape एवं size पर नहीं।
  • (2) सीमान्त घर्षण बल का मान अभिलम्बवत प्रतिक्रया Normal Reaction Force (N) के समानुपाती होता है।
------------------------------------------------------------------------
Fs  N
Fs = μsN
इसलिए
μs = ᶠˢ/N
μs सीमांत घर्षण गुणाक Coefficient of limiting friction force
--------------------------------------------------------------------------------




Kinetic Friction गतिक घर्षण

जब दो वस्तुयें contact में हो तथा उनमें से कोई एक अथवा दोनों गति में हो तो उनके बीच लगने वाले घर्षण बल Frictional force को गतिक घर्षण बल कहते हैं।



Law of Kinetic Friction गतिक घर्षण के नियम


  • (1) Static Friction का मान Contact Surface के Nature पर depend करता है उनके size एवं shape पर नहीं।
  • (2) Static friction का मान Limiting Friction से हमेशा कम होता है
  • (3) Static Friction का मान normal reaction force के समानुपाती होता है।
-----------------------------------------------------------------------------
 Fk   N
Fk = μkN

------------------------------------------------------


Angle of Friction घर्षण कोण

Limiting friction पर Normal reaction force ओर limiting friction के परिणामी बल (S) तथा Normal reaction force अभिलम्बवत प्रतिक्रिया बल के बीच बनने वाले कोण को घर्षण कोण Angle of friction कहते हैं।
Frictional Force, Cause of friction, Types of Friction, Angle of Friction, What is friction in Hindi,  घर्षण बल, घर्षण बल क्या है, घर्षण का कारण, Static Friction, Limiting Friction , Kinetic Friction, sliding friction, rolling friction, static fricton defination,
Frictional Force, Cause of friction, Types of Friction, Angle of Friction, What is friction in Hindi


--------------------------------------------------------

S √(N² + S²)
tanγ = ᶠˢ/N
but Fs = μsN
so  tanγ = μsN/N
⇒ μs
⇔      γ = tan⁻¹(μs)


----------------------------------------------------




इसके अलावा friction force के दो और type होते हैं।

  • (1) Sliding Friction सर्पी घर्षण
  • (2) Rolling Friction बेल्लन घर्षण अथवा लौटनी घर्षण




सर्पी घर्षण Sliding Friction

जब कोई वस्तु किसी दूसरी वस्तु अथवा तल पर फिसलती है तो उनके संपर्क तालों के बीच लगने वाले बल को सर्पी घर्षण Sliding friction force कहते हैं।




बेल्लन घर्षण बल Rolling friction

जब कोई वस्तु किसी तल अथवा दूसरी वस्तु के ऊपर rotate करता है अथवा लुढ़कता है तो इसके कारण लगने वाला घर्षण बल, बेल्लन घर्षण बल Rolling Friction कहलाता है।
जैसे :- गाड़ी के पहिये, बेल्लन, गोला, सभी Rolling fiction  के example हैं।
बेल्लन घर्षण का मान सबसे कम होता है।


  • बेल्लन घर्षण < गतिक घर्षण < सीमान्त घर्षण< सर्पी घर्षण



  • Rolling Fiction < Kinetic Friction < Limiting Friction < Sliding Friction





friction is necessary evil explain घर्षण एक आवश्यक बुराई


घर्षण को एक आवश्यक बुराई Necessary evil कहा जाता है क्योंकि यह उपयोगी होने के साथ-साथ हानिकारक भी है।  घर्षण से हमें चलने, लिखने, चीजों को रखने, वस्तुओं को उठाने, पकड़ने में मदद मिलती है।  तो यह हमारे जीवन में आवश्यक है।  घर्षण के बिना कई आवश्यक प्रक्रियाएं नहीं की जा सकती हैं।

  दूसरी ओर, यह कई बार अनावश्यक भी होता है।  यह कभी-कभी ऊर्जा, और मशीनरी के कुछ हिस्सों को नुकसान पहुंचाता है, जिसके कारण यह चीजों को नुकसान भी पहुंचाता है। इसके कारण पृथ्वी पर चलने से थकान लगती है यूँ कहे कि यह काफी ऊर्जा को बर्बाद कर देता है,  इसलिए यह एक आवश्यक बुराई है।



method of reducing friction घर्षण को कम करने के उपाय बताइए


  •  किसी भी वस्तु की सतह को चिकना Smooth कर देने से उसकी घर्षण की क्षमता कम हो जाती है।

  •  दो सतहों के बीच किसी भी तैलीय या smoothly element स्नेहक को लगा देने से उन सतहों के बीच का friction कम हो जाता है।

  •  किन्हीं दो सतहों के बीच अगर हवा की एक परत हो तो भी उन सतहों के बीच Friction कम हो जाता है।

  • घूमने वाली मशीनों में Ball Bearings का प्रयोग किया जाता है जिससे घर्षण बल कम हो जाता है।

इस विषय से सम्बंधित यदि आपका कोई सवाल है तो आप नीचे Comment में लिख सकते हैं। 


यह भी पढ़े



Post a comment